Uttarakhand Ayurveda PG Entrance Exam Question Paper (UAPGMEE- 2008) With Answer Key

Uttarakhand Ayurveda PG Entrance Exam-2008

1. धमनी शैथिल्य किसका लक्षण है ?

(a) रक्तक्षय

(b) रक्तवृद्धि

(c) मांसक्षय

(d) मांसवृद्धि

Answer: (c)

2. ‘‘क्षीरपूर्ण लोचनता’’ किस सार का लक्षण है ?

(a) त्वक सार 

(b) मज्जा सार 

(c) रक्तसार 

(d) शुक्रसार

Answer: (d)

3. ‘‘मूढसंज्ञता एवं मन्दचेष्टा’’ किसका लक्षण है ?

(a) वातक्षय

(b) कफवृद्धि

(c) पित्तक्षय

(d) कफक्षय

Answer: (a)

4. आचार्य चरक ने लसिका की गणना किसके अन्तगर्त की है ? (च. शा. 7/15)

(a) रस

(b) उदक 

(c) कफ

(d) रक्त

Answer: (b)

5. ‘‘सर्वांग नेत्रगौरवम्’’ किसका लक्षण है ?

(a) मांसवृद्धि

(b) मेदवृद्धि

(c) मज्जावृद्धि

(d) शुक्रवृद्धि

Answer: (c)

6. किस रस के अतिसेवन से आक्षेप, अर्दित व मन्यास्तम्भ हो जाता है ?

(a) तिक्त

(b) कषाय

(c) कटु

(d) अम्ल

Answer: (a)

7. आचार्य सुश्रुत ने किस इन्द्रिय से सूर्य की समानता की है ?

(a) त्वक्

(b) रसना

(c) घ्राण

(d) नेत्र

Answer: (d)

8. ‘‘नाभिस्थः प्राणपवनः स्पट्वाहृत्कमलान्तरम्’’ किस ग्रन्थ का संदर्भ है ?

(a)  चरक

(b) सुश्रुत

(c) अष्टांग हृदय

(d) शारंग्र्धर

Answer: (d)

9. “रसस्तु हृदयं याति समानमरूतेरितः’’ कहाॅं का संदर्भ है –

(a) भेल संहिता 

(b) भावप्रकाष 

(c) सुश्रुत

(d) शारंग्र्धर

Answer: (d)

10. किस आचार्य ने ओज का संवहन दष महामूला धमनियों से माना है –

(a) भेल

(b) चरक

(c) सुश्रुत

(d) सभी ने

Answer: (b)

11. काठिन्यज व न्यूनभावज किसके भेद है –

(a) दोषसंचय का 

(b) दोष प्रकोप का 

(c) दोष प्रसर का 

(d) स्थानसंश्रय का 

Answer: (b)

12. ‘‘रूक्षान्तर्दाह संधिषैथिल्यं तृष्णा’’ – किसका लक्षण है –

(a) कफक्षय

(b) वातक्षय

(c) आर्तव क्षय

(d) मज्जा क्षय 

Answer: (a)

13. ‘‘पवनोत्तम’’ किस वायु को कहा गया है –

(a) प्राणवायु

(b) समानवायु

(c) उदानवायु

(d) अपानवायु

Answer: (c)

14. ‘‘वारूण्याष्चातिसेवनात्’’ किस स्रोत्रस दुष्टि का कारण है –

(a) मांसवह

(b) मेदोवह

(c) रसवह

(d) रक्तवह

Answer: (b)

15. षष्ठी कला है –

(a) पुरीषधरा

(b) श्लेष्मधरा

(c) पित्तधरा

(d) रक्तधरा

Answer: (c)

16. घमनी मर्म का वर्णन किस संहिता में मिलता है ?

(a) अष्टांग संग्रह 

(b) अष्टांग हृदय 

(c) सुश्रुत संहिता 

(d) चरक संहिता 

Answer: (b)

17. स्नायु मर्मो की कुल संख्या होती है –

(a) 27

(b) 41

(c) 20

(d) 11

Answer: (a)

18. कालान्तर प्राणहर मर्म में किन महाभूतों का प्राधान्य होता है ?

(a) वायु

(b) आग्नेय

(c) सौम्य व आग्नेय 

(d) आग्नेय व वायव्य 

Answer: (c)

19. गर्भ में शोणितकिट्ट से किसकी उत्पत्ति होती है –

(a) उण्डूक

(b) यकृत प्लीहा 

(c) मलाषय

(d) फुफ्फुस

Answer: (a)

20. ………चेत समवायी – किसके संदर्भ में कहा गया है –

(a)  आत्मा

(b) मन 

(c) त्वचा

(d) नेत्र

Answer: (d)

21. स्तब्धपूर्णकोष्ठता व पीतावभासता किसका लक्षण है –

(a) दोषसंचय का 

(b) दोष प्रकोप का 

(c) दोष प्रसर का 

(d) स्थानसंश्रय का 

Answer: (a)

22. कोर और उलूखल किसके प्रकार है ?

(a) मर्म

(b) स्नायु

(c) संधि

(d) अस्थि

Answer: (c)

23. ताम्र भस्म की शास्त्रीय मात्रा होती है ?

(a) 24

(b) 22

(c) 14

(d) 18

Answer: (a)

24. कर्ण में पित्तवाहिनी सिराओं की कुल संख्या होती है –

(a) 10

(b) 8

(c) 6

(d) 2

Answer: (d)

25. द्रव्यों के वर्गीकरण में द्रव द्रव्य वर्ग किसकी मौलिक देन है –

(a) चरक

(b) सुश्रुत

(c) अष्टांग संग्रह 

(d) अष्टांग हृदय 

Answer: (b)

26. चरकानुसार गर्भानुलोमक द्रव्य है ?

(a) चित्रक

(b) मधुक

(c) धातकी

(d) वटक्षीर

Answer: (a)

27. सुश्रुत ने सूत्र स्थान के 38 वें अध्याय में कितने गणों का वर्णन किया है ?

(a) 50

(b) 45

(c) 40

(d) 37

Answer: (d)

28. अरूष्कर किसका पर्याय है –

(a) वासा

(b) भल्लातक

(c) चित्रक

(d) लांगली

Answer: (b)

29. संधानीय महाकषाय में निर्दिष्ट द्रव्य है –

(a) मधुक

(b) मधूक

(c) मृद्वीका

(d) लांगली

Answer: (a)

30. रक्त प्रतिस्कन्दन द्रव्य है –

(a) लोध्र

(b) प्रियंगु

(c) नागकेसर

(d) लहसुन

Answer: (d)

31. गुरू गुण किस महाभूत का है ?

(a) पृथ्वी

(b) आकाष

(c) वायु

(d) तेज

Answer: (a)

32. वायु और आकाष महाभूत का प्राधान्य किस रस में होता है –

(a) कषाय

(b) अम्ल

(c) तिक्त

(d) कटु

Answer: (c)

33. आग्नेय रस है –

(a) अम्ल

(b) तिक्त

(c) कषाय

(d) सभी 

Answer: (a)

34. आत्रेय द्वारा विपाक की संख्या मानी गयी है ?

(a) त्रिविध

(b) द्विविध

(c) षड्विध

(d) पंचविध

Answer: (a)

35. सुखविरेचन द्रव्य है ?

(a) आरग्वध

(b) त्रिवृत्त

(c) स्नुही

(d) जयपाल

Answer: (b)

36. अग्निसादक द्रव्य है ?

(a) चित्रक

(b) मिश्रेया

(c) भल्लातक

(d) अहिफेन

Answer: (d)

37. तण्डुल किसका पर्याय होता है ?

(a) बीज का 

(b) फल का 

(c) पत्र का 

(d) मूल का 

Answer: (a)

38. स्वेदोपग द्रव्य है ?

(a) मृद्वीका

(b) मधुक

(c) एरण्ड

(d) शालपर्णी

Answer: (c)

39. वर्चस्य द्रव्य है –

(a) हरिद्रा

(b) गोक्षीर

(c) सरल

(d) सर्ज

Answer: (b)

40. “ष्वयथु’’ किसका पर्याय है ?

(a) कामला का 

(b) शोथ का  

(c) पाण्डु का 

(d) अलसक का 

Answer: (b)

41. चरकानुसार 3 माषक = ……. ?

(a) 1 शाण 

(b) 1 कोल 

(c) 1 अण्डिका 

(d) 1 शुक्तिका 

Answer: (a)

42. 1 निष्पाव किसके तुल्य है ?

(a) 60 mg 

(b) 120 mg 

(c) 250 mg 

(d) 500 mg 

Answer: (c)

43. त्नइइपदह कर्म है –

(a) स्वेदन

(b) मर्दन

(c) लेखन

(d) ऐषण

Answer: (b)

44. चित्रक का प्रयोज्यांग होता है ?

(a) मूल

(b) फल

(c) तबक

(d) मूलत्वक्

Answer: (d)

45. वृहती के संदर्भ में सत्य कथन है –

(a) वीर्य शीत होता है। 

(b) विपाक मधुर होता है। 

(c) वीर्य अनुष्णशीत होता है। 

(d) वीर्य उष्ण होता है। 

Answer: (d)

46. यूफोर्बियेसी किस द्रव्य का कुल है ?

(a) लवंग

(b) श्योनाक

(c) गुडूची

(d) आमलकी

Answer: (d)

47. ताम्बुल का रस होता है ?

(a) कटु, कषाय 

(b) मधुर, कटु 

(c) मधुर, कषाय 

(d) कटु, तिक्त 

Answer: (d)

48. “वीहिृमित्रा’’ किसका पर्याय है ?

(a) मूषा का 

(b) पुट का 

(c) वंकनाल का 

(d) पिधान का 

Answer: (a)

49. नागभस्म निमाणार्थ किस पुट का प्रयोग किया जाता है ?

(a) कुक्कुट पुट 

(b) गजपुट 

(c) महापुट 

(d) वाराहपुट 

Answer: (a)

50. रस रत्न समुच्चय के अनुसार पारद के दोषों की कुल संख्या होती है –

(a) 3

(b) 7

(c) 2

(d) 12

Answer: (d)

51. रस रत्न समुच्चय के अनुसार पारद के संस्कारों की कुल संख्या होती है –

(a) 3

(b) 16

(c) 17

(d) 18

Answer: (d)

52. ‘‘कज्जली’’ होती है ?

(a) शुद्ध पारद व गंधक का मिश्रण 

(b) पारद, गंधक व स्वर्ण का मिश्रण 

(c) पारद, गंधक व रजत का मिश्रण 

(d) पारद, गंधक व लौह का मिश्रण

Answer: (a)

53. पंचामृत पर्पटी की सामान्य औषधीय मात्रा होती है –

(a) रत्ती

(b) 1 रत्ती 

(c) 2 रत्ती 

(d) 1 माषा 

Answer: (c)

54. अभ्रक को किस वर्ग में रखा गया है।

(a) महारस

(b) उपरस

(c) साधारण रस 

(d) उपरत्न

Answer: (a)

55. पाइराइट है ?

(a) हरताल

(b) अभ्रक

(c) रसक

(d) माक्षिक

Answer: (d)

56. सुश्रुतानुसार षिलाजीत कितने प्रकार का होता है ?

(a) 2

(b) 4

(c) 6

(d) 8

Answer: (c)

57. शुल्वारि किसका पर्याय है ?

(a)  नाग

(b) गंधक

(c) ताम्र

(d) स्वर्ण

Answer: (c)

58. खर्पर है ?

(a) रसक

(b) गिरिसिन्दूर

(c) मृद्दारश्रृंग

(d) माक्षिक

Answer: (a)

59. स्फटिक भस्म की सामान्य औषध मात्रा होती है –

(a) 12 रत्ती 

(b) 24 रत्ती 

(c) 48 रत्ती 

(d) 812 रत्ती 

Answer: (b)

60. Mallotus philliphinensis is the botanical name of –

(a)  अग्निजार

(b) कंकुष्ठ

(c) षिलाजतु

(d) कम्पिल्लक

Answer: (d)

61. ‘‘फेनाष्म’’ किसका पर्याय है –

(a) हरताल

(b) गौरीपाषाण

(c) गौरीपुष्प

(d) समुद्रफेन

Answer: (b)

62. नृसार – किस एक औषध योग का घटक है ?

(a) बोल पर्पटी 

(b) गगन पर्पटी 

(c) रसपुष्प 

(d) श्वेत पर्पटी 

Answer: (d)

63. ‘‘गिरिसिन्दूर’’ है –

(a) HgO

(b) HgS

(c) Hg2cl2 

(d) PbO

Answer: (a)

64. श्रेष्ठ हिंगुल है –

(a) शुकतुण्ड

(b) चार्मार

(c) हंसपाद

(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं 

Answer: (c)

65. शारंग्र्धर के अनुसार लौहवर्ग कितने है –

(a) 3

(b) 6

(c) 7

(d) 12

Answer: (c)

66. स्वर्ण का परमाणु भार होता है –

(a) 65.38 

(b) 118.70 

(c) 196.97 

(d) 200.6 

Answer: (c)

67. अमृत किसका पर्याय है –

(a) भल्लातक

(b) हरीतकी

(c) स्वर्ण

(d) वत्सनाभ

Answer: (d)

68. उपविष है ?

(a) भल्लातक

(b) वत्सनाभ

(c) श्रृंगिक

(d) मुस्तक

Answer: (a)

69. मृदु द्रव्य से क्वाथ निमाणार्थ कितना गुना जल लिया जाना चाहिए –

(a) चार

(b) आठ

(c) बारह

(d) सौलह

Answer: (a)

70. सबसे गुरू व तीक्ष्ण कल्पना है ?

(a) स्वरस

(b) श्रृत

(c) कल्क

(d) इन मसे कोई नहीं 

Answer: (a)

71. यापना वस्ति किस ऋतु में दी जानी चाहिए ? (च. सि. 12/21)

(a) बसन्त

(b) हेमन्त

(c) शिषिर

(d) सर्व तु में 

Answer: (d)

72. शारंग्र्धर के औषध काल होते है –

(a) 5

(b) 2

(c) 10

(d) 11

Answer: ()

73. आस्तिक दर्शन की संख्या है –

(a) 2

(b) 3

(c) 6

(d) 1

Answer: (c)

74. चार्वाक ने कितने प्रमाण माने हैं –

(a) 1

(b) 2

(c) 4

(d) 8

Answer: (a)

75. अध्यात्म गुण है –

(a) लोभ

(b) मोह 

(c) क्रोध

(d) प्रयत्न

Answer: (d)

76. चेतन द्रव्य होते है ?

(a) इन्द्रिय युक्त 

(b) इन्द्रिय रहित 

(c) दोनों

(d) इनमें से कोई नहीं 

Answer: (a)

77. ‘‘साहचर्या नियमो………….।

(a) 2

(b) 4

(c) 8

(d) 10

Answer: (b)

78. तन्त्रार्थ (प्रकरण) कितने माने गए है ?

(a) चरक

(b) सुश्रुत

(c) वाग्भट्ट

(d) भावप्रकाष

Answer: (d)

79. ‘‘साध्य निर्देष …………………………।’’

(a) प्रतिज्ञा

(b) हेतु

(c) उपनय

(d) निगमन

Answer: (a)

80. वादमार्गो की संख्या है –

(a) 15

(b) 32

(c) 36

(d) 44

Answer: (d)

81. मन निग्रहकर्ता है ?

(a) इन्द्रियों का 

(b) मन का 

(c) इन्द्रियों व मन का 

(d) वायु का 

Answer: (c)

82. चरकानुसार स्मृति के कारण माने गए है ?

(a) 2

(b) 4

(c) 8

(d) 10

Answer: (c)

83. ‘‘विकार’’ है ?

(a) अर्थाश्रय

(b) ताच्छील्य

(c) कल्पना

(d) तंत्रदोष

Answer: (b)

84. स्वभावोपरममवाद किस आचार्य की देन है –

(a) चरक

(b) सुश्रुत

(c) वाग्भट्ट

(d) शारंग्र्धर

Answer: (a)

85. ‘‘द्वैष’’ किसका लक्षण है ?

(a) आत्मा का 

(b) सत्व का 

(c) आत्मा और सत्व दोनों का 

(d) इनमें से कोई नहीं 

Answer: (a)

86. ‘‘……. अपृथग्भाव।’’

(a) सामान्यो

(b) समवायो

(c)  विषेष

(d) कारणो

Answer: (a)

87. ‘‘धृति’’ किसका कर्म है ?

(a) वात

(b) पित्त

(c) कफ

(d) रक्त

Answer: (b)

88. परमाणु स्तर पर पाक को क्या कहा जाता है ?

(a) पीलू पाक 

(b) पिठर पाक

(c) अवयवी पाक 

(d) निष्ठा पाक 

Answer: (a)

89. ‘‘सर्पि प्रकाषं स्रावं’’ किस स्थानगत व्रण का लक्षण है ?

(a) त्वचागत

(b) मांसगत

(c) सिरागत

(d) स्नायुगत

Answer: (b)

90. वातज श्लीपद में चिकित्सार्थ सिरावेध किस स्थान पर निर्दिष्ट है ?

(a) गुल्फ से चार अंगुल ऊपर 

(b) गुल्फ से चार अंगुल नीचे 

(c) अगुष्ठ की प्रसिद्ध सिरा का 

(d) सिराव्यध निषिद्ध है

Answer: (a)

91. ‘‘प्रलम्बतेऽलाबुवतऽल्पमूलो’’ किसका लक्षण हैं –

(a) वातिक गलगण्ड 

(b) श्लैष्मिक गलगण्ड 

(c) मेदोज गलगण्ड 

(d) गण्डमाला 

Answer: (c)

92. ‘‘स्कन्ध भग्न’’ की चिकित्सार्थ कौनसा बन्ध निर्दिष्ट है ?

(a) पंचांगी

(b) कोष

(c) दाम

(d) स्वस्तिक

Answer: (d)

93. ‘‘कर्कष स्थिर पृथु व कठिन’’ अर्ष की चिकित्सा किस उपक्रम से होती है ?

(a) भेषज

(b) क्षारकर्म

(c) अग्निकर्म

(d) शस्त्रकर्म

Answer: (c)

94. उदराभिघात से आमाषय में रक्त एकत्र होने का मुख्य लक्षण है ?

(a) रक्तवमन

(b) नाभि के नीचे शीतलता का होना 

(c) शरीर गौरव 

(d) इनमें से कोई नहीं 

Answer: (a)

95. ‘‘चक्रतैल’’ का प्रयोग किसमें निर्दिष्ट है ?

(a) वातव्याधि

(b) वातरक्त

(c) योनिव्यापद

(d) भग्न

Answer: (d)

96. अर्बुद में पाक नहीं होता है क्योंकि इसमें – (सु. नि. 11/22)

(a) कफ व रक्त का आधिक्य होता है 

(b) कफ व माॅंस का आधिक्य होता है 

(c) कफ व मेद का आधिक्य होता है 

(d) वात व मेद का आधिक्य होता है 

Answer: (c)

97. तक्र का गुण होता है ?

(a) दीपन, ग्राही, लघु 

(b) दीपन, सारक, लघु 

(c) स्तम्भन, लघु, शीत 

(d) दीपन, ग्राही, गुरू 

Answer: (a)

98. विरूद्धाहार जनित रोग है ?

(a) विसर्प

(b) ग्रहणी

(c) आध्मान

(d)  उपर्युक्त सभी

Answer: (d)

99. गुड और काकमाची का एक साथ प्रयोग किस प्रकार का विरूद्ध है ?

(a) रस विरूद्ध 

(b) संयोग विरूद्ध 

(c) वीर्य विरूद्ध 

(d) कर्म विरूद्ध 

Answer: (b)

100. पानीय क्षार का प्रयोग किस स्थिति में निषिद्ध है ?

(a) रक्तपित्त

(b) आभ्यान्तर विद्रधि 

(c) गरविष 

(d) उपरोक्त सभी 

Answer: (a)

101. घृत व्यापद की चिकित्सा में निर्दिष्ट यवागु है ?

(a) उपोदिका व दधि से सिद्ध यवागु 

(b) तक्र से सिद्ध यवागु 

(c) तक्र पिण्याक से सिद्ध यवागु 

(d) अपामार्ग क्षीर से सिद्ध यवागु

Answer: (b)

102. ….दीर्घ रोगाणां।

(a) ज्वर

(b) प्रमेह

(c) कुष्ठ

(d) राजयक्ष्मा

Answer: (c)

103. अतिनिद्रा की चिकित्सा में कौनसा उपक्रम निर्दिष्ट नहीं है (च. सू. 21/52)

(a) अभ्यंग

(b) व्यायाम

(c) षिरोविरेचन

(d) उपवास

Answer: (a)

104. ‘‘त्वगवदरण’’ है –

(a) वातज नानात्मज विकार 

(b) पित्तज नानात्मज विकार 

(c) कफज नानात्मज विकार 

(d) रक्तज नानात्मज विकार 

Answer: (b)

105. पिण्डतैल का गुणधर्म होता है –

(a) पित्तापहम्

(b) स्तम्भनघ्न

(c) दाहघ्नं

(d) रूजापहम्

Answer: (d)

106. उरूस्तम्भ में मुख्य दूष्य होता है –

(a) रक्त

(b) मांस

(c) मेद

(d) मज्जा

Answer: (c)

107. प्रधमन नस्य किसमें देते है –

(a) अपतंत्रक

(b) पक्षाघात

(c) अपतानक

(d) इनमें से कोई नहीं 

Answer: (a)

108. किस स्थिति में विरेचन निषिद्ध है –

(a) आनाह

(b) अरूचि

(c) विबन्ध

(d) अजीर्ण

Answer: (d)

109. शोथरोग में अपथ्य है ?

(a) पिप्पली

(b) जांगल मांस 

(c) शुष्क शाक 

(d) षिखी मांस 

Answer: (c)

110. चरकानुसार ‘‘सैन्धवादि चूर्ण’’ का रोगाधिकार है ?

(a) वातव्याधि

(b) गुल्म

(c) शोथ

(d) क्षतक्षीण

Answer: (d)

111. किस व्याधि में विशेष रूप से मन दूषित होता है –

(a) उन्माद

(b) अपस्मार

(c) मूच्र्छा

(d) सन्यास

Answer: (b)

112. चरकानुसार ‘‘तालीसादि चूर्ण’’ का रोगाधिकार है ?

(a) कास

(b) ज्वर

(c) क्षतक्षीण

(d) राजयक्ष्मा

Answer: (d)

113. सिद्ध कुष्ठ में दोष प्राधान्य होता है ?

(a) पित्त, कफ 

(b) वात, कफ 

(c) वात, पित्त 

(d) कफ

Answer: (b)

114. अधोग रक्तपित्त का हेतु है ?

(a) रूक्ष व उष्ण आहार 

(b) स्निग्ध व उष्ण आहार

(c) रूक्ष व शीत आहार 

(d) स्निग्ध व शीत आहार 

Answer: (a)

115. संतत ज्वर के कितने आश्रय होते है ?

(a) 2

(b) 9

(c) 7

(d) 12

Answer: (d)

116. वृष्य अण्डरस में परिगणित नहीं है ?

(a) चटक

(b) हंस

(c) बर्हिण

(d) दक्ष

Answer: (a)

117. श्रेष्ठ षिलाजतु है ?

(a) लौह

(b) रजत

(c) ताम्र

(d) स्वर्ण

Answer: (a)

118. चरक ने अभेषज के कितने भेद निर्दिष्ट किए है ?

(a) 8

(b) 4

(c) 2

(d) 1

Answer: (c)

119. फिरंग रोग का सर्वप्रथम वर्णन किस ग्रन्थ में देखने को मिलता है –

(a) चरक संहिता 

(b) सुश्रुत संहिता 

(c) शारंग्र्धर संहिता 

(d) भावप्रकाष

Answer: (d)

120. ‘‘पित्तज अर्ष’’ की आकृति होती है ?

(a) करीरपनसास्थि निभं

(b) कदम्बपुष्पाकृति 

(c) शुकजिहृवा संस्थान 

(d) नाडी मुकुलाकृति 

Answer: (c)

121. ‘‘यव मध्यानि’’ किस अर्ष का लक्षण है ?

(a) वातज

(b) पित्तज

(c) कफज

(d) सान्निपातिक

Answer: (b)

122. अगर कर्णपाली मूल से कटी हुई हो तो किस कर्णबन्धन का प्रयोग करना निर्दिष्ट है ?

(a) व्यायोजिम

(b) गण्डकर्ण

(c) निर्वेधिम

(d) वल्लूरक

Answer: (c)

123. सुश्रुत ने कौनसा भगन्दर नहीं माना है ?

(a) शतपोनक

(b) उष्ट्रग्रीव

(c) परिस्रावी

(d) परिक्षेपी

Answer: (d)

124. सुश्रुतानुसार अनुषस्त्र है –

(a) समुद्रफेन

(b) शुष्कगोमय

(c) शेफालिका पत्र

(d) उपर्युक्त सभी

Answer: (c)

125. स्तन्य वर्धनार्थ किसका प्रयोग अभिष्ट नहीं है –

(a) दर्भ

(b) कुष

(c) काष

(d) पाठा

Answer: (d)

126. ‘‘पष्चाद्रुज’’ किस स्ािानगत व्याधि है ?

(a) नासा

(b) षिर

(c) मुख

(d) गुद

Answer: (d)

127. सुश्रुतानुसार स्त्री श्रोझाी का विस्तार कितना अंगुल होता है ? –

(a) 18 अंगुल 

(b) 16 अंगुल 

(c) 12 अंगुल 

(d) 32 अंगुल 

Answer: (c)

128. ‘सोमरोग’ का वर्णन किस संहिता में नहीं है –

(a) हारीत

(b) योगरत्नाकर

(c) शारंग्र्धर

(d) भावप्रकाष

Answer: (a)

129. मूढगर्भ की गतियाॅ कितने प्रकार की होती है –

(a) 2

(b) 3

(c) 4

(d) 8

Answer: (d)

130. काष्यप के मतानुसार सूतिकाकाल कितना होता है –

(a) 45 दिन 

(b) 4 मास 

(c) 6 मास 

(d) पुनः आर्तवदर्षन तक 

Answer: (c)

131. छः प्रकार की बन्ध्याओं का वर्णन किस ग्रन्थ में मिलता है ?

(a) चरक संहिता 

(b) सुश्रुत संहिता 

(c) हारीत संहिता 

(d) इनमें से काई नहीं 

Answer: (c)

132. त्वक का संग्रहण काल है ?

(a) शरद

(b) बसन्त

(c) ग्रीष्म

(d) वर्षा

Answer: (a)

133. माता के रस से किसका पोषण होता है ?

(a) स्तन्य का 

(b) गर्भ का 

(c) स्वयं का 

(d) सभी का 

Answer: (d)

134. काष्यप ने ‘‘बन्ध्यत्व’’ की गणना किस नानात्मज विकारों में की है ?

(a) वातज

(b) पित्तज

(c) कफज

(d) रक्तज

Answer: (a)

135. ‘‘नातिच्छिन्नं नातिभिन्नमुभयोर्लक्षणान्वितम्’’ किस व्रण का लक्षण है –

(a) विद्ध

(b) पिच्चित

(c) घृष्ट

(d) क्षत

Answer: (d)

136. भेदन कर्मार्थ शस्त्र की धार होनी चाहिए –

(a) कैषिकी 

(b) अर्द्धकैषिकी

(c) मसूरी

(d) अर्द्धमसूरी

Answer: (c)

137. कौनसा युग्म सुमेलित नहीं है –

(a) करपत्र, मण्डलाग्र – भेदन

(b) करपत्र, मण्डलाग्र – छेदन

(c) कुठारिका, आरा – वेधन 

(d) करपत्र, मण्डलाग्र – लेखन 

Answer: (a)

138. ‘‘निसृत हस्तपादषिरः कायसंगी’’ किस मूढगर्भ का लक्षण है –

(a) कील

(b) प्रतिखुर

(c) परिघ

(d) बीजक

Answer: (b)

139. पंचावयव में सम्मिलित है –

(a) स्थापना

(b) अनुयोज्य

(c) अननुयोज्य

(d) निगमन

Answer: (d)

140. ‘‘युक्ति‘‘ प्रमाण किसने माना है –

(a) चरक

(b) चार्वाक

(c) न्याय दर्शन

(d) वैषेषिक दर्षन 

Answer: (a)

141.चरकानुसार कितने मास की गर्भावस्था के पष्चात गर्भ वैकारिक कहलाता है –

(a) 9 मास 

(b) 10 मास 

(c) 11 मास 

(d) 12 मास 

Answer: (b)

142. ‘‘संजीवनी वटी’’ का घटक द्रव्य नहीं है –

(a) पिप्पली

(b) वत्सनाभ

(c) भल्लातक

(d) मरिच

Answer: (d)

143. हारीत के मतानुसार ‘‘दोहृदकाल’’ होता है ?

(a) 3 मास 

(b) 4 मास 

(c) 5 मास 

(d) 3 पक्ष से 5 मास 

Answer: (c)

144. सत्कार्यवाद के समर्थक है –

(a) सांख्य दर्षन 

(b) बौद्ध दर्षन 

(c) न्याय दर्शन 

(d) वैषेषिक दर्षन 

Answer: (a)

145. दीपन -पाचन दोनों कर्म करने वाला द्रव्य है –

(a) मरिच

(b) हरीतकी

(c) चित्रक

(d) भल्लातक

Answer: (c)

146. चरकानुसार सिद्धान्त के भेद होते है –

(a) 2

(b) 4

(c) 5

(d) 8

Answer: (b)

147. आस्तिक दर्षन है –

(a) 1

(b) 2

(c) 3

(d) 6

Answer: (d)

148. सुश्रुतानुसार आनूप वर्ग का प्राणि नहीं है –

(a) मृग

(b) गज

(c) वराह

(d) माहिष

Answer: (a)

149. ‘‘कठिन’’ कर्म किसका है ?

(a) वायु

(b) जल

(c) आकाष

(d) पृथ्वी

Answer: (d)

150. ‘‘तुरंगगंधी व्रणस्राव’’ किस दोष के प्राधान्य से होता है ?

(a) वात

(b) पित्त

(c) कफ

(d) रक्त

Answer: (d)

151. रसक्रिया किस स्थान पर निर्दिष्ट है –

(a) जहाॅ बन्धन निषिद्ध हो  

(b) चल संधि पर 

(c) पुनः दोषोत्पत्ति होने से 

(d) उपर्युक्त सभी परिस्थितियों में 

Answer: (d)

152. निम्न में से विष्टम्भी फल होता है –

(a) स्वर्णपत्री का 

(b) पनस का 

(c) द्राक्षा का 

(d) हरीतकी का 

Answer: (b)

153. किस व्याधि में हरीतकी का प्रयोग करवाया जा सकता है ?

(a) तृष्णा

(b) नवज्वर

(c) हनुस्तम्भ

(d) कुष्ठ

Answer: (d)

154. अगर गुरू व अभिष्यन्दी पदार्थो के सेवन से पुनरावर्तक ज्वर की उत्पत्ति होती है तो उसकी चिकित्सा का उपक्रम होना चाहिए –

(a) लंघन व शीतल उपक्रम 

(b) लंघन व उष्ण उपक्रम 

(c) यापना वस्ति व शीतल उपक्रम 

(d) मृदु संषोधन व शीतल उपक्रम

Answer: (b)

155. वातव्याधिवत चिकित्सा किसमें निर्दिष्ट है ?

(a) अपक्व उपषीर्षक 

(b) पक्व उपषीर्षक 

(c) जलषीर्षक

(d) उल्वक

Answer: (a)

156. डाउन सिन्ड्रोम किस प्रकार की विकृति है ?

(a) बीजदोष जनित 

(b) मातुर आहार जनित 

(c) दन्तोद्भव जनित 

(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं 

Answer: (a)

157. ‘‘अग्निमादित्यं च पित्तं’’ किस आचार्य का कथन है ?

(a) चरक

(b) सुश्रुत

(c) वाग्भट्ट

(d) काष्यप

Answer: (d)

Latest Govt Job & Exam Updates:

View Full List ...